Wednesday, August 4, 2010

REPRESENTATION FOR MACP

It's just the waste of time to depend only upon the association,make your own future:
As you aware that almost all the Caders of AIR have the advantage of the MACP Scheme except the Announcers.In this regard a complaint had been sent to DG AIR on 20:05:10 from Jaipur (Rajasthan) but till date nothing has been done.Meantime we have sought information through RTI which is awaited.We request you all to make a representation in the below given format being forwarded to the Directorate through proper channel.
केवल असोसिएशन पर निर्भर रहना समझदारी नहीं, अपना भविष्य खुद तय करें :
जैसा कि आप जानते हैं, उदघोषक को छोड़कर आकाशवाणी के लगभग सभी कैडर्स को एम ए सी पी स्कीम का लाभ दिया जा चुका है इस सम्बन्ध में हमने २०.०५.१० को जयपुर से महानिदेशक महोदया के नाम एक शिकायती पत्र भेजा लेकिन आज तक कोई कार्यवाही नहीं हुई, इस बीच हमने इस सम्बन्ध में आर टी आई के माध्यम से सूचना मांगी जो अपेक्षित है ! आप सब से निवेदन है कि आप स्वयं नीचे दिए गए प्रारूप में प्रतिवेदन अपने केंद्र से महानिदेशालय को अग्रेषित कराएँ ताकि कार्यवाही हो सके !


Complaint letter 20th May :-
To,
        The Director-General,
          All India Radio,
          Prasar Bharati,  
       Akashvani Bhawan,
        New Delhi-110001                                     Dated-20.05.2010

Sub: MACP Scheme to Announcers- reg.
Dear Madam,
                  This is to bring to your kind notice the gross irregularity that is still been done by S VIII section of DG: AIR, it apparently shows the lack of knowledge and sheer incompetence of the section (S VIII), a circular bearing no: 8/1/2008-S VIII (Pt.1) dated 07.05.2010 and again on 10.05.2010 and again on 14.05.2010 was issued under the signature of Sh.A.K.Lal, DDA on behalf of DG: AIR regarding ACP to Announcers. It appears that they have not heard of or are ignorant of OM no: 35034/3/2008-Estt(D), Government of India, Ministry of Personnel, Public Grievances and Pensions (Dept. of Personnel and Training) dated 13.05.2009.
Your kind attention is drawn to this OM’s Annexure 1 , Page4- 5, illustration 1, point no. 5 ,sub- points “a” & “b” where it clearly says that, quote “In case of both (a) and (b) above, the promotions/ financial upgradations granted under ACP to the pre-revised scales of Rs.5500-9000 and Rs.6500-10500 prior to 1.1.2006 will be ignored on account of merger of the pre-revised scales of Rs.5000-8000, Rs.5500-9000 and Rs.6500-10500 recommended by the Sixth CPC. As per CCS (RP) rules, both of them will be granted grade pay of Rs.4200 in the pay band PB-2. After implementation of MACPS, two financial upgradations will be granted in the case of (a) and (b) above to the next higher grade pays of Rs.4600 and Rs.4800 in the pay band PB-2.” (Un-quote)
It may also be pertinent to mention here that the scheme came into operation with effect from 01.09.2008. But the S VIII section, DG: AIR feigning ignorance, are barking up the wrong tree by harping about the erstwhile ACP scheme.
The Akashvani Announcers Association demands that the MACP scheme be extended to Announcers of All India Radio with effect from 01.09.2008 and orders to this effect may kindly be issued by your kind self immediately to ameliorate the pitiable condition of Announcers and also to follow the government orders.
We anxiously await your favourable orders.
                                           Thanking you.


                                                                                  Yours faithfully
                                                                                
                                                                               (Gopal Lal Lakhan)
                                                                                     Secretary
                                                                    Akashvani Announcers Association
                                                                    Date:20th May,2010
                                                                    All India Radio, Jaipur

Copy to:
1. CEO, Prasar Bharati
2. Secretary, Ministry of  I & B


Representation to be sent to DG :-
The Director General,
All India Radio,
Akashvani Bhawan,
Sansad Marg,
New Delhi – 110001
THROUGH PROPER CHANNEL
Sub : Request for Provision of Benefit under MACP Scheme as per recommendation of 6th CPC.
Ref. : Directorate General’s Circular regarding implementation of  Modified ACP Scheme for Employees of AIR vide File No. B/12017/7/2008 – WL dt. 29th May 2009.
Madam,
I earnestly request your kind self, with reference to the ‘Subject’ cited above, to pass on necessary instructions to our Office(AIR, ……………………..), so that they may take up the case of implementation of ‘Modified ACP’ and expedite the fixation of my ‘Pay’ with the benefit of ‘MACPS’ recommendations.
My Service Details are presented herewith for your information : --
 1. Name :
 2. Date of Entry into Service :
 3. Designation (at the Time of Entry) :
 4. Present Designation :
 5. Station of Initial Posting :
 6. Present Posting :
 7. Present Basic Pay :
 8. Grade Pay :
 9. Date of Completion of 10-Years
     of Regular Service in this Grade :
10.Date of Last Promotion :
11.Date of Completion of 20-Years
     of Regular Service in this Grade :
12.Date of Last Promotion :
13.Date of Completion of 30-Years
     of Regular Service in this Grade :
14.Date of Last Promotion :

                                                                   
                                                                                 Yours faithfully,

                                                                                 Name :
                                                                                 Designation :
                                                                                 Station :
                                                                                 Date :

5 comments:

gopal said...

प्रिय दोस्तो,
विगत 09/08/2010 को मैं एसोसिएशन के सचिव की हैसियत से नई दिल्ली (महानिदेशालय) गया था.लखनऊ से श्रीमति नूतन वशिष्ठ भी आई थीं. हम दोनों ने वहां पर डी डी जी(प्रशासन),डी डी ए (एस vii) तथा डी डी ए (sviii) से बातचीत की.बातचीत का विषय/मुद्दा उदघोषकों के सभी ग्रेड में एम ए सी पी का था,हमने उनसे इस विषय में हो रही देरी के कारण जानने चाहे तथा मेरे द्वारा इस सम्बन्ध में पूर्व में भेजे प्रतिवेदन पर कार्रवाई की बात की.
मैंने इन सभी अधिकारियों से बातचीत के बाद महसूस किया है कि दिल्ली में उदघोषकों के लिए कुछ भी अच्छा नहीं हो रहा.हमारे सेक्शन के डी डी ए साफ़ तौर पर कहते हैं कि उनके पास स्टाफ नहीं है और उदघोषकों को उनकी मदद करनी होगी.सेक्शन ऑफिसर ने बताया कि उन्हें बाहरी मदद की कोई ज़रूरत नहीं.
डी डी जी महोदय ने आश्वस्त किया कि सेक्शन से इस सम्बन्ध में कोई भी प्रस्ताव आते ही तुरंत कार्रवाई की जाएगी तथा staff shortage की बात निराधार है.साथ ही उन्होंने दूसरे दिन 10 /08 को 11 बजे अपने कक्ष में मीटिंग बुलाने की बात की तथा हमें भी आने को कहा.09 /08 की रात मैं वापस जयपुर लौट आया लेकिन लौटने से पहले नूतन जी तथा भोपाल से आये हमारे साथी श्री पुरुषोत्तम ने मुझे बताया कि वे अगले दिन की मीटिंग में डी डी जी कक्ष में उपस्थित रहेंगे.10 /08 की निर्धारित मीटिंग में क्या प्रगति हुई श्र्रीमति नूतन और श्री पुरुषोत्तम बेहतर जानते हैं.
कुल मिलाकर मैं यह कह सकता हूँ कि महानिदेशालय में किसी को उदघोषक अथवा उसकी असोसिएशन की कतई परवाह नहीं, विशेष रूप से हमारे सेक्शन को जो एम ए सी पी संबंधी कोई भी ज़िम्मेदारी उठाने को ही तैयार नहीं तथा निकट भविष्य में इसके होने की कोई उम्मीद नहीं जब तक कि व्यक्तिगत रूप से आवेदन भेज कर सेक्शन को विवश न किया जाय.हम अपने कन्वीनर तथा अन्य पदाधिकारियों से यह पूछें कि उन्होंने इस सम्बन्ध में क्या किया है? अगर किया है तो वेबसाइट पर शो करें ताकि सब जान सकें.

anand said...

Dear friends ye sach hai ki hamesha ki tarha ye tatha-katith neta dili ja ja ke apne kaam karte hain rishte-daaron se milte hain aur hum logo ki bhavnaon se khilwad karte hain yadi ye shahi work kar rhe hain to jo bhi hai sabke saamne rakh den ho sakta hai hum sab uska koi samadhaan nikal payen.lekin enke paas kuch nai hai so doston ab satark ho jayen and inki asliyat ko be-nquab kare....

nutan vasistha said...

dosto jaisa gopal ne kaha kihum dilli gaye the, thik hai.nirash hone ki zaroorarat nahi hai.ddg ji se meeting ka parinam tha ki dusre din hi murcy josef naam ki mahil section me laga di gai.par haa ye zaroor hai ki jase baqiassociations ke logo neaage badh kar macp acp aur dpc ka kaam kiya hai hame bhi karna hoga.sara doshvibhag par daalne se acha hai ki hum khud ki ekta aur taqat ko pahchaneaur apne state se 3 4 logo ko aage badh kar yah kaam karne ko prerit kare.blog se kai mahatvapurn jankariya mil rahi hai unka labh uthaye.ek rahe hum qamyabi ke qafi qareeb hai.aaa zindabad nutan.ph.9415063343

nutan vasistha said...

dostojanmashtmi auriid ki dher sari shubh kamnaye,iid ke baad dilli jayenge.apne state ke saare sathiyo ki cr ki stithi bataye.sare kagaz diili gaye ya nahi kripya batane ka kasht kare.email nutanji@rediffmail.com

Arun said...

नूतन जी को ब्लॉग पर देख अच्छा लगा अन्य साथिओं से भी यही अपेक्षा है की अपनी आवाज़ को उजागर करें और हर पक्ष पर दबाव बनायें. ब्लॉग पर रतनू जी का नया पोस्ट AAA और उसकी साईट व मंशा पर प्रश्न चिन्ह है .आशा है AAA लीडरशिप इसपर ध्यान देगा .मैं फिर कहूँगा हमें आपसी विवाद से बच कर लक्ष्य की ओर ध्यान देना चाहिए.यदि कोई प्रश्न है तो उसका उचित व्यक्ति को जवाब देना चाहिए .इधर NFADE का दिनांक ०८ अगस्त २०१० का पत्र मेरे सामने है जो आगे की रणनीति उजागर करता है .इसमें हमारे AAA के श्री चंद्रशेखर जी के हस्ताक्षर हैं सील के साथ .मैंने AAA की साईट पर भी इस बारे में कमेन्ट डाला है की जब NFADE हमारी मांगो पर ध्यान नहीं देता सिर्फ अपनी मांगो को लेकर आन्दोलन करता है तो फिर हम उनका साथ क्यों दें .वे लोग जब किसी मंत्री या अधिकारी से मिलते हैं तो अपने काडर की बात करते हैं .उनके साथ हमारा कोई प्रतिनिधि भी नहीं होता और न ही उनके अजेंडे में हमारी मांगे होती हैं. हम और तो और सामान्य से MACP से भी वंचित किये जा रहे हैं .मैंने डेढ़ दशक की यात्रा में जाना है की कुछ कैडर स्पष्ट रूप से नहीं चाहते की हम उनके समकक्ष रहें .हमें पीछे रख कर उन्हें संतोष मिलता है .यह इर्ष्या नहीं यथार्थ है.मगर रोने से क्या हासिल अपनी नैय्या हमने कई मौकों पर हमने खुद डुबोई है .अब भी संभले तो बड़ी बात होगी. साथियों को पुनः शुभकामनायें !!!
-अरुण पाण्डेय
वाराणसी